‘आंदोलनात्मक आतंकवाद’ के माध्यम से राष्ट्र को अधिक हानि पहुंचाने वाली पी.एफ.आई. पर कार्रवाई होना आवश्यक ! - ब्रिगेडियर हेमंत महाजन

वैन (दिल्ली ब्यूरो - 27.09.2022) :: नागरिकों द्वारा चुनी गई सरकारने बनाए हुए कानून का बडी संख्या में विरोध कर हिंसाचार एवं दंगे किये जा रहे है । वर्ष 2014 के उपरांत आतंकवाद का स्वरूप बदल गया है। आज ‘एजीटेशनल टेररिजम’ (आंदोलनात्मक आतंकवाद) के माध्यम से भारत देश को अधिक हानि पहुंचाने का काम ‘पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया’ (पी.एफ.आई.) कर रही है। आतंकवादी आक्रमणों की अपेक्षा दंगे कराना, हिंसाचार करना, लोगों को उग्रवादी बनाना, इनसे अधिक हानि हो रही है, यह इन लोगों को समझ में आ गया है। इसलिए पी.एफ.आई. की गहन जांच होनी चाहिए और उनपर कठोर कार्यवाही होनी चाहिए, ऐसा प्रतिपादन सैन्य दल से सेवानिवृत्त ब्रिगेडियर हेमंत महाजन ने किया। वे हिन्दू जनजागृति समिति की ओर से आयोजित ‘पी.एफ.आई. पर प्रतिबंध क्यों लगाना चाहिए?’ इस विषय के ऑनलाइन विशेष संवाद में बोल रहे थे।

ब्रिगेडियर हेमंत महाजन ने आगे कहा, उग्रवादी संगठन अथवा आतंकवादी संगठन को काम करने के लिए पैसों की आवश्यकता होती है । पी.एफ.आई. को इस्लामी राष्ट्रों से फंडिंग हो रही है । यह फंडिंग बंद होनी चाहिए । तभी ये आतंकवादी गतिविधियां रुकेंगी । जो इस्लामी देश तथा देश के अन्य संगठन पी.एफ.आई. की आर्थिक सहायता कर रहे हैं, उन पर अंतरराष्ट्रीय कानूनों के अंतर्गत कार्यवाही होनी चाहिए । जब तक पी.एफ.आई. की ओर आनेवाले आर्थिक मार्ग बंद नहीं होते, तब तक आतंकवादी गतिविधियां नहीं रुकेंगी।

जिन्ना की भांति ‘पी.एफ.आई.’ भी भारत को खंडित कर इस्लामी राष्ट्र बनाना चाहता है ! - प्रवीण दीक्षित, सेवानिवृत्त पुलिस महासंचालक

महाराष्ट्र के सेवानिवृत्त पुलिस महासंचालक प्रवीण दीक्षित ने कहा, वर्ष 1947 में मोहम्मद जिन्ना ने अखंड भारत का विभाजन कर पाकिस्तान बनाया । इसी पृष्ठभूमि पर पी.एफ.आई. का भी इस्लामी राष्ट्र बनाने का षड्यंत्र है । खाडी देश पी.एफ.आई. को प्रतिमाह करोडों रुपए भेजते हैं । भारत में धर्म द्वेष एवं जाति द्वेष फैलाकर अराजकता निर्माण करने का प्रयास करते हैं । इसलिए केवल पी.एफ.आई. पर प्रतिबंध लगाने से यह गतिविधियां बंद नहीं होंगी; क्योंकि यह एक विचारधारा है । वह एक भिन्न नाम से पुनः आतंकवादी गतिविधियां करेंगे । इसके लिए केंद्र में ‘गैरकानूनी गतिविधियां (रोकथाम) अधिनियम’ (UAPA) लागू किया है और इसके आधार पर संगठन का नाम बदलकर गतिविधियां करनेवाले व्यक्तियों पर कार्यवाही की जा रही है । इस कानून के माध्यम से तत्काल कठोर कार्यवाही होने पर ही आतंकवादी आगे बडे देशद्रोही कृत्य करने का साहस नहीं करेंगे । आतंकवादियों पर न्यायोचित पद्धति से कार्यवाही होती है; तब भी ‘मुसलमानों पर अत्याचार किए जा रहे हैं’, ऐसा दुष्प्रचार आतंकवादियों के समर्थक करते हैं । इस प्रकार के झूठे प्रचार के विरोध में जनजागरण करना आवश्यक है, ऐसा भी दीक्षित ने कहा।

Responses

Leave your comment